Positivity, positivity को खींचती है

Yes आपने सही सुना। आज तक आपने सुना होगा पैसा ,पैसे को खींचता है। मुझे यकीन है इस पर आपने पूरी research कर ली होगी।

चलिए अब हम समझते हैं, क्या है, positivity ? क्यों बहुत जरूरी है?

इससे पहले ये जानना ज्यादा जरूरी है कि positive thinking क्या नहीं है?

1 positive thinking ये नहीं है कि जैसा मै सोच रहा हूं, जो चाहता हूं, बिल्कुल वैसा ही होगा।

2 positive thinking ये भी नहीं है कि आप कोई चीज पाना चाहते है और वो आपको हर हाल में मिलेगी ही मिलेगी अगर आप उसके बारे में पॉजिटिव सोचते रहेंगे तो।

3 positive thinking ये भी नहीं है कि आप अपने future के बारे में सोचते हो कि आपके साथ सब अच्छा होगा और कभी कुछ बुरा नहीं हो सकता।

4 overconfidence तो positive thinking बिल्कुल भी नहीं है

इन चारों का ही positive thinking से कोई connection नहीं है। ये सिर्फ आपकी उम्मीद कहलाएगी

एक उदाहरण से इसे समझते है

Life एक cricket का मैच है, जिसमें life बॉलिंग करती है। आप अकेले हो। कोई और player नहीं है। कोई हार- जीत नहीं है।
Balls opportunity है। आपने खेली तो opportunity मिल गई और अगर ना मिली तो फिर आएगी। Life को complicated हम बनाते है। हर बात पर दुःखी होते हैं।
Failures के लिए कोई जगह नहीं!

हर बार जीतना क्या इतना जरूरी है?
क्या life कोई जंग है?!

खुश होकर, आराम से जीना ही positivity है। लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित रखने से opportunity जरूर मिलती है। इसी सोच को positive thinking कहते हैं।

Positive thinking क्या है?

1 बार बार हार कर भी जीतने कि कोशिश करते रहना ही positive thinking है

2 हर मुश्किल का हंस कर, डट कर सामना करना positive thinking है

3 बिना किसी डर के कि हार होगी या जीत आगे बढ़ते रहना positive thinking है

इसे भी एक उदाहरण से समझते है

आप नौकरी का interview देने गए। अब आपको नौकरी क्यों चाहिए ये अगर आप सोचते रहोगे तो आपको नौकरी नहीं मिलेगी। आपको नौकरी तब मिलेगी जब आप समझोगे की उस company को क्या चाहिए जिसमें आप interview देने गए हो।

तभी आप अपनी skills, confidence, knowledge पर काम करोगे और इसी को कहते हैं positive thinking with right direction and you will surely get the success

Unrealistic wishing और positive thinking में यही फर्क है।

positivity, positivity को कैसे खींचती है?

बहुत simple इसे ऐसे समझते है। सब failures और success के बाद भी आपका विश्वास और नजरिया हर चीज को लेकर सम है और हर परिस्थिति में आप सिर्फ और सिर्फ खुश हो तो आप positive thinker हो

आपकी इस खूबी को देखकर सब यही कहेंगे कि आप positive thinker हो। आपकी खुद की और दूसरो कि आपके लिए सोच positive होगी और इसी से आपकी positive thinking और मजबूत हो जाएगी।

Relationsip में कैसे काम करती है positive thinking

किसी भी relationship के टूटने या रहने का एक ही reason होता है EXPECTATION

आपकी ज्यादा expectation रिश्तों को तोड देती है।
किसी भी व्यक्ति से आप उतना ही expect करो जितनी उसकी strength हो।

रिश्तों में ना तो comparison होना चाहिए न ही expectation।ये दोनों ही रिश्तों को कमजोर करते हैं।

Positive thinking का ये मतलब बिल्कुल नहीं है कि आप का आज का जीवन अच्छा चल रहा है तो आगे भी अच्छा ही होगा और कभी किसी बात पर अनबन नहीं होगी

दो different personalities के लोग होंगे तो विचारो में भिन्नता होना स्वाभाविक है।
यहां यदि positive thinking होगी तो आप उन बातो को महत्व ना देकर व्यक्ति को देंगे।

At the end life is fragile.Life is a game and you have to play it. So relax and Be Positive

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *