नवरात्रि क्यों मनाते हैं ?

नवरात्रि एक हिंदू पर्व है। नवरात्रि एक संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ होता है ‘नौ रातें’। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान, शक्ति / देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। दसवाँ दिन दशहरा के नाम से प्रसिद्ध है। पर्व का...

श्राद्ध क्यों करते हैं और कैसे करते हैं?

श्राद्ध का महत्व व परंपरा श्राद्ध’ शब्द ‘श्रद्धा’ से बना है, जो श्राद्ध का प्रथम अनिवार्य तत्व है अर्थात पितरों के प्रति श्रद्धा होना। महाभारत के अनुसार, सबसे पहले महातप्सवी अत्रि ने महर्षि निमि को श्राद्ध के बारे में उपदेश दिया...

कर्मा का सिद्धांत

ना किसी का गलत किया ना गलत किया जाएगा अपने मतलब की खातिर गधे को भी बाप बनाना ये हमसे ना हो पाएगा😊 लोग भले ही बेवकूफ समझे ये समझ उनकी खुद की है ये दुनिया कम दिमाग वाले भोलो कि...

पढ़ाई जरूरी या Home Work

अक्सर हमने देखा है कि बचपन से ही बच्चो पर Home Work का इतना pressure होता है कि बच्चे खेल नहीं पाते। स्कूल में पढ़ाई के साथ ही घर के लिए बहुत सारा Home Work मिल जाता है। बच्चो को जिस...

मां पर सुंदर रचना

मां वह पहला शब्द, जो बोल, बच्चे बोलना सीखते उसके आंचल की छाया में, वह हर दिन बढ़ते और खिलते बचपन से जवानी तक हर बात बच्चे की मां सुनती है खेले – कुदे, खिलौने दिलाए, हर ख्वाहिश उसकी पूरी करती...

मासूम बच्चियां

लड़कियां ये छोटी बच्चिया, मासूमियत से भरी हैवानों को क्या सुनती नहीं, इनकी किलकारिया फूल सी नाजुक ये परिया, कहां जाएं रहने को अब तो भगवान भी डरता है लड़कियां देने को दहेज, मारपीट, ना पढ़ाना, घर से बाहर ना जाना...

रिश्ते, ये अनमोल !!

बहुत होते हैं, दुनिया में लोग जो सिर्फ अपनी बीन बजाते हैअपने मतलब के खातिर फिर गधे को भी बाप बनाते हैं। अच्छे होते हैं लोग वही, जो कड़वा बोल जाते हैंक्यूंकि अक्सर सच्चे बोल ही मन को चुभ जाते हैं।...

डर क्यों लगता है?

भय तथा असुरक्षा क्या है? क्या वास्तव में डर जैसी कोई चीज होती है या इसकी उपज हमारे दिमाग ने की है। वास्तव में अगर हम देखेंगे तो भय का कोई अस्तित्व ही नहीं है। हम इसे अपने अचेतन में निर्मित...

जानिए सेब खाना क्यों जरूरी है?

सेब (Apple) धरती पर बहुत पहले से मौजूद हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार दुनिया में पहली बार सेब हजारों साल पहले मध्य एशियाई देश कज़ाख़िस्तान में पैदा हुए थे। एक सेब (Apple) पेड़ 100 से अधिक वर्षों तक जीवित रह सकता हैं।...